Shayari-Sangam

Collection of Hindi-Urdu Shayari

Most Popular Rahat Indori Shayari Lyrics in English Hindi full collection


Go to Shayari

raaz jo kuch ho ishaaro.n me.n bata bhi dena

raaz jo kuchh ho ishaaro.n me.n bata bhi dena
haath jab us se milaana to daba bhi dena

waise is khat me.n koi baat nahi.n hai
phir bhi ahetiyaatan ise padhlo to jala bhi dena


राज़ जो कुछ हो इशारों में बता भी देना
हाथ जब उस से मिलाना तो दबा भी देना

वैसे इस खत में कोई बात नहीं है
फिर भी एहतियातन इसे पड़लो तो जला भी देना


kisne dastak di ye dil par “kaun hai ?”

kisne dastak di ye dil par “kaun hai ?”
aap to andar he.n, “baahar kaun hai ?”


किसने दस्तक दी ये दिल पर , “कौन है ?”
आप तो अंदर हैं , “बाहर कौन है ?”


shahro.n me.n to baarudo.n ka mausam hai

shahro.n me.n to baarudo.n ka mausam hai
gaan.w chalo ye amrudo.n ka mausam hai


शहरों में तो बारूदों का मौसम है
गांव चलो ये अमरूदों का मौसम है


meri saanso.n me.n samaaya bhi bahot lagta hai

meri saanso.n me.n samaaya bhi bahot lagta hai
wahi shakhs paraaya bhi bahot lagta hai

us se milne ki tamanna bhi bahot hai
lekin aane-jaane me.n kiraaya bhi bahot lagta hai


मेरी साँसों में समाया भी बहोत लगता है
वही शख्स पराया भी बहोत लगता है

उस से मिलने की तमन्ना भी बहोत है
लेकिन आने जाने में किराया भी बहोत लगता है


zubaa.n to, khol nazar to mila, aawaaz to de

zubaa.n to, khol nazar to mila, aawaaz to de
mai.n kitni baar luta hu.n mujhe hisaab to de

tere badan ki likhaawat me.n hai utaar-chadaaw
mai.n tujhe kaise padunga, kitaab to de


जुबां तो खोल, नज़र तो मिला, जवाब तो दे
में कितनी बार लुटा हूँ , मुझे हिसाब तो दे

तेरे बदन की लिखावट में है उतार चड़ाव
में तुझको कैसे पडूंगा , किताब तो दे


faisala jo kuchh bhi ho manzoor hona chaahiye

faisala jo kuchh bhi ho manzoor hona chaahiye
jang ho ya ‘ishq ho bharpoor hona chaahiye

kat chuki hai umr saari jinki patthar todte
ab to in haatho.n me.n kohinoor hona chaahiye


फैसला जो कुछ हो मंज़ूर होना चाहिए
जंग हो या इश्क़ हो भरपूर होना चाहिए

कट चुकी है उम्र सारी जिनकी पत्थर तोड़ते
अब तो इन हाथों में कोहिनूर होना चाहिए


ham apni jaan ke dushman ko apni jaan kehte he.n

ham apni jaan ke dushman ko apni jaan kehte he.n
mahobbat ki isi mitti ko hindustaan kehte he.n

mere andar se ek-ek karke sab kuchh ho gaya rukhsat
magar ek chiz baaki hai jise imaan kehte he.n


हम अपनी जान के दुश्मन को अपनी जान कहते हैं
मोहब्बत की इसी मिट्टी को हिन्दुस्तान कहते हैं

मेरे अंदर से एक एक करके सब कुछ हो गया रुख्सत
मगर एक चीज़ बाकी है जिसे ईमान कहते हैं


jahaalato.n ke andhere mita ke laut aaya

jahaalato.n ke andhere mita ke laut aaya
mai.n aaj saari kitaabe.n jalaa ke laut aaya

wo ab bhi rail me.n baithi sisak rahi hogi
mai.n apna haath hawa me.n hilaa ke laut aaya

khabar mili hai ke sona nikal raha hai wahaa.n
mai.n jis zameen pe thokar laga ke laut aaya

wo chaahta tha ke kaasa kharid le mera
mai.n uske taaj ki qimat laga ke laut aaya


जहालतों के अँधेरे मिटा के लौट आया
में आज सारी किताबें जला के लौट आया

वो अब भी रेल में बैठी सिसक रही होगी
में अपना हाथ हवा में हिला के लौट आया

खबर मिली है के सोना निकल रहा है वहाँ
में जिस ज़मीन पे ठोकर लगा के लौट आया

वो चाहता था के कासा खरीद ले मेरा
में उसके ताज की कीमत लगा के लौट आया


uski katthaii aankho.n me.n hai jantar mantar sab

uski katthaii aankho.n me.n hai jantar mantar sab
chaaku-waaku, chhuriyaa.n-wuriyaa.n, khanjar-wanjar sab

jis din se tum ruthi, mujhse ruthe-ruthe he.n
chaadar-waadar, takiya-wakiya, bistar-wistar sab

mujhse bichhad kar wo bhi kahaa.n, pahele jaisi hai
fike pad gaye kapde-wapde, zewar-wewar sab

‘ishq-wishq ke saare nuskhe mujhse sikhte he.n
taahir-waahir, manzar-wanzar, zohar-wohar sab


उसकी कत्थई आँखों में है जंतर-मंतर सब
चाक़ू-वाकु, छुरियां-वुरियां, खंजर-वंजर सब

जिस दिन से तुम रूठी मुझसे रूठे-रूठे हैं
चादर-वादर, तकिया-वकिया, बिस्तर-विस्तर सब

मुझसे बिछड़ कर वो भी कहाँ अब पहले जैसी है
फीके पड़ गए कपडे-वपड़े, ज़ेवर-वेवर सब

इश्क़-विश्क के सारे नुस्खे मुझसे सीखते हैं
ताहिर-वाहिर, मंज़र-वंजर, जोहर-वोहर सब


kabhi akele me.n mil kar janjod dunga use

kabhi akele me.n mil kar janjod dunga use
jahaa.n-jahaa.n se wo tuta hai jhod dunga use

mujhe wo chhod gaya ye kamaal hai uska
iraada maine kiya tha ke chhod dunga use

pasine baantTa firta hai har taraf suraj
kabhi jo haath laga to nichod dunga use

maza chakhaake hi maana hu.n , mai.n bhi duniya ko
samaj rahi thi ki aise hi chhod dunga use


कभी अकेले में मिल कर झंजोड़ दूंगा उसे
जहां-जहां से वो टूटा है जोड़ दूंगा उसे

मुझे वो छोड़ गया ये कमाल है उसका
इरादा मैंने किया था के छोड़ दूंगा उसे

पसीने बांटता फिरता है हर तरफ सूरज
कभी जो हाथ लगा तो निचोड़ दूंगा उसे

मज़ा चखाके ही माना हूँ में भी दुनिया को
समज रही थी की ऐसे ही छोड़ दूंगा उसे


andhere chaaro.n taraf saaye.n-saaye.n karne lage

andhere chaaro.n taraf saaye.n-saaye.n karne lage
charag haath utha kar duaaei.n karne lage

salika jinko sikhaaya tha hamne chalne ka
wo log aaj hame.n daaye.n-baaye.n karne lage

tarakki kar gaye bimaariyo.n ke sodaagar
ye sab mareez he.n jo ab dawaae.n karne lage

ajeeb rang tha majlis ka, khub mahfil thi
safed-posh uth, kaaye.n-kaaye.n karne lage


अँधेरे चारों तरफ सायें-सायें करने लगे
चराग हाथ उठा कर दुआएं करने लगे

सलीका जिनको सिखाया था हमने चलने का
वो लोग आज हमें दाएं-बाएं करने लगे

तरक्की कर गए बिमारियों के सौदागर
ये सब मरीज़ हैं जो अब दवाएं करने लगे

अजीब रंग था मजलिस का, खूब महफ़िल थी
सफ़ेद पॉश उठ, काएं-काएं करने लगे


aaj ham dono.n ko fursat hai, chalo ‘ishq kare.n

aaj ham dono.n ko fursat hai, chalo ‘ishq kare.n
‘ishq dono.n ki zarurat hai, chalo ‘ishq kare.n

isme.n nuksaan ka khatra hi nahi.n rehta hai
ye munaafe ki tijaarat hai, chalo ‘ishq kare.n

aap hindu, mai.n musalmaan, ye isaee, wo sikh
yaar ! chhodo, ye siyaasat hai, chalo ‘ishq kare.n

roz-roz aate nahi.n aise nashile mausam
shaam hai, jaam hai, raahat hai, chalo ‘ishq kare.n


आज हम दोनों को फुर्सत है चलो इश्क़ करें
इश्क़ दोनों की ज़रूरत है चलो इश्क़ करें

इसमें नुक्सान का खतरा ही नहीं रहता
ये मुनाफे की तिजारत है चलो इश्क़ करें

आप हिन्दू, में मुसलमान, ये ईसाई, वो सिख
यार छोडो ये सियासत है, चलो इश्क़ करें

रोज़-रोज़ आते नहीं ऐसे नशीले मौसम
शाम है, जाम है, राहत है चलो इश्क़ करें


‘ishq ne gunthe the jo gajre nukile ho gaye

‘ishq ne gunthe the jo gajre nukile ho gaye
tere haatho.n me.n to ye kangan bhi dhile ho gaye

phool bechaare akele reh gaye he.n shaakh par
gaanw ki sab titliyo.n ke haath pile ho gaye

kya zaroori hai kare.n wishpaan ham shiv ki tarha
sirf jaamun kha liye, aur honth nile ho gaye


इश्क़ ने गुंथे थे जो गजरे, नुकीले हो गए
तेरे हाथों में तो ये कंगन भी ढीले हो गए

फूल बेचारे अकेले रह गए हैं शाख पर
गांव की सब तितलियों के हाथ पिले हो गए

क्या ज़रूरी है, करें विषपान हम शिव की तरह
सिर्फ जामुन खा लिए, और होंठ नीले हो गए


suraj, sitaare, chaand mere saath me.n rahe

suraj, sitaare, chaand mere saath me.n rahe
jab tak tumhaare haath, mere haath me.n rahe

shaakho.n se toot jaae.n wo patte nahi.n he.n ham
aandhi se koi keh de ke aukaat me.n rahe


सूरज, सितारे, चाँद मेरे साथ में रहे
जब तक तुम्हारे हाथ मेरे हाथ में रहे

शाखों से टूट जाएं वो पत्ते नहीं हैं हम
आंधी से कोई कह दे के औकात में रहे


sirf khanjar hi nahi.n, aankho.n me.n paani chaahiye

sirf khanjar hi nahi.n, aankho.n me.n paani chaahiye
aye KHuda ! dushman bhi mujhe, khaandaani chaahiye

maine apni khushq aankho.n se lahu chhalka diya
ek samandar keh raha tha, mujhko paani chaahiye


सिर्फ खंजर ही नहीं, आँखों में पानी चाहिए
अये खुदा ! दुश्मन भी मुझे खानदानी चाहिए

मैंने अपनी खुश्क आँखों से लहू टपका दिया
एक समंदर कह रहा था, मुझको पानी चाहिए


jo taur hai duniya ka, usi taur se bolo

jo taur hai duniya ka, usi taur se bolo
behro.n ka ilaaka hai, zara zor se bolo

dilli me.n ham hi bola kare.n aman ki boli
yaaron ! kabhi tum bhi laahor se bolo


जो तौर है दुनिया का, उसी तौर से बोलो
बहरों का इलाका है, ज़रा जोर से बोलो

दिल्ली में हम ही बोला करें अमन की बोली
यारों ! कभी तुम भी लाहौर से बोलो


gulaab, khwaab, dawa, zahar, jaam, kya-kya hai

gulaab, khwaab, dawa, zahar, jaam, kya-kya hai
mai.n aa gaya hu.n, bata intezaam kya-kya hai

faqeer, shaakh, kalandar, imaam, kya-kya hai
tuje pata nahi.n, tera gulaam kya-kya hai


गुलाब, ख्वाब, दवा, ज़हर, जाम क्या क्या है
में आ गया हूँ बता इंतेज़ाम क्या क्या है

फ़कीर, शाख, कलंदर, इमाम क्या क्या है
तुजे पता नहीं तेरा गुलाम क्या क्या है


naye safar ka naya intezaam keh de.nge

naye safar ka naya intezaam keh de.nge
Hawa ko dhup charaagon ko shaam keh deinge

kisi se haath bhi chhup kar milaaeeye
warna ise bhi maulwi saahab haraam keh de.nge


नए सफर का नया इंतज़ाम कह देंगे
हवा को धुप चरागों को शाम कह देंगे

किसी से हाथ भी छुप कर मिलाएं
वरना इसे भी मौलवी साहब हराम कह देंगे


loo bhi chalti thi to Wo baa’d-e-saba kehte the

loo bhi chalti thi to Wo baa’d-e-saba kehte the
paanw faile andhero.n ko ziya kehte the

unka anjaam tujhe yaad nahi.n hai shaayad
aur bhi log the jo khud ko KHuda kehte the


लू भी चलती थी तो वो बा’द-ए-सबा कहते थे
पांव फैले अँधेरे को ज़िया कहते थे

उनका अंजाम तुजे याद नहीं है शायद
और भी लोग थे जो खुद को खुदा कहते थे


kabhi mahak ki tarha ham gulo.n se udte he.n

kabhi mahak ki tarha ham gulo.n se udte he.n
kabhi dhue.n ki tarha parwaton se udte he.n

ye kenchiyaa.n hame.n udne se khaak rokengi
ham paro.n se nahi.n, hoslo.n se udte he.n


कभी महक की तरह हम गुलों से उड़ते हैं
कभी धुंए की तरह पर्वतों से उड़ते हैं

ये कैंचियां हमें उड़ने से ख़ाक रोकेंगी
हम परों से नहीं, हौसलों से उड़ते हैं


mere hujre me.n nahi.n, aur kahi.n par rakh-do

mere hujre me.n nahi.n, aur kahi.n par rakh-do
aasmaa.n laaye ho ! le aao, zamee.n par rakh-do

ab kahaa.n dhundhne jaaoge, hamaare qaatil ?
aap to qatl ka ilzaam, hamee.n par rakh-do

maine jis taak pe kuchh toote diye rakkhe-he.n
chaand-taaro.n ko bhi le jaake, wahi.n par rakh-do


मेरे हुजरे में नहीं और कहीं पर रख-दो
आसमां लाये हो ! ले आओ, ज़मीं पर रख-दो

अब कहाँ ढूंढने जाओगे हमारे क़ातिल ?
आप तो क़त्ल का इलज़ाम हमीं पे रखदो

मैंने जिस ताक पे कुछ टूटे दिए रक्खे हैं
चाँद-तारों को भी ले-जाके वहीँ पर रख दो


kashti ! tera naseeb, chamakdaar kar diya

kashti ! tera naseeb, chamakdaar kar diya
is paar ke thapedo ne, us paar kar diya

afwaah thi ke meri tabiyat kharaab hai
logo.n ne puchh-puchh ke bimaar kar diya

do-gaz sahi magar, ye meri milkiyat to hai
aye maut ! tune mujhe zamee.n-daar kar diya


कश्ती ! तेरा नसीब चमकदार कर दिया
इस पार के थपेड़ों ने उस पार कर दिया

अफवाह थी के मेरी तबियत खराब है
लोगों ने पूछ पूछ के बीमार कर दिया

दो-गज़ सही मगर ये मेरी मिलकियत तो है
अये मौत ! तूने मुझे ज़मींदार कर दिया


nayi hawaao.n ki sohbat bigaad deti hai

nayi hawaao.n ki sohbat bigaad deti hai
kabutaro.n ko khuli chhat bigaad deti hai

jo jurm karte he.n, itne bure nahi.n hote
saza na de-ke adaalat bigaad deti hai

milaana chaaha hai insaan ko jab bhi insaan se
to saare kaam siyaasat bigaad deti hai

hamaare peer, taqee meer ne kaha tha kabhi
miyaa.n ! ye aashiqui, izzat bigaad deti hai

ye chalti firti dukano.n ki tarha hote he.n
naye ameero.n ko daulat bigaad deti hai


नयी हवाओं की सोहबत बिगाड़ देती है
कबूतरों को खुली छत बिगाड़ देती है

जो जुर्म करते हैं इतने बुरे नहीं होते
सज़ा न देके अदालत बिगाड़ देती है

मिलाना चाहा है इंसान को जब भी इंसान से
तो सारे काम सियासत बिगाड़ देती है

हमारे पीर, तक़ी मीर ने कहा था कभी
मियाँ ! ये आशिक़ी इज़्ज़त बिगाड़ देती है

ये चलती फिरती दुकानों की तरह होते हैं
नए अमीरों को दौलत बिगाड़ देती है


siyaasat me.n zaruri hai rawaa.n-daari samajta hai

siyaasat me.n zaruri hai rawaa.n-daari samajta hai
wo roza to nahi.n rakhta, par iftaari samajta hai

achaanak baansuri se dard ki lehre.n ubharti he.n
guzarti hai jo raadha par wo girdhaari samajta hai


सियासत में ज़रूरी है रवां-दारी समझता है
वो रोज़ा तो नहीं रखता पर इफ्तारी समझता है

अचानक बांसुरी से दर्द की लहरें उभरती हैं
गुज़रती है जो राधा पर वो गिरधारी समझता है


sarhado.n par bahut tanaaw hai kya

sarhado.n par bahut tanaaw hai kya
kuchh pata to karo, chunaaw hai kya

khauf bikhra hai dono.n samto.n me.n
tisree(3rd) samt ka dabaaw hai kya


सरहदों पर बहुत तनाव है क्या
कुछ पता तो करो चुनाव है क्या

खौफ बिखरा है दोनों समतों में
तीसरी संत का दबाव है क्या


andar ka zahar choom liya, dhul ke aa gaye

andar ka zahar choom liya, dhul ke aa gaye
kitne sharif log the, sab khul ke aa gaye

suraj se jang jeetne nikle the bewakuf
saare sipaahi mom ke the, gul ke aa gaye


अंदर का ज़हर चुम लिया धुल के आ गए
कितने शरीफ लोग थे सब खुल के आ गए

सूरज से जंग जीतने निकले थे बेवक़ूफ़
सारे सिपाही मोम के थे गुल के आ गए


‘ishq me.n jeetke aane ke liye kaafi hu.n

‘ishq me.n jeetke aane ke liye kaafi hu.n
mai.n akela hi zamaane ke liye kaafi hu.n

har hakikat ko meri khwaab samaj ne waale !
mai.n teri nind udaane ke liye kaafi hu.n

mere bachcho.n ! mujhe dil kholke tum kharch karo
mai.n akela hi kamaane ke liye kaafi hu.n

ek akhbaar hu.n aukat hi kya meri
magar shaher me.n aag lagaane ke liye kaafi hu.n


इश्क़ में जीतके आने के लिए काफी हूँ
में अकेला ही ज़माने के लिए काफी हूँ

हर हकीकत को मेरी ख्वाब समझने वाले !
में तेरी नींद उड़ाने के लिए काफी हूँ

मेरे बच्चों ! मुझे दिल खोलके तुम खर्च करो
में अकेला ही कमाने के लिए काफी हूँ

एक अखबार हूँ औकात ही क्या मेरी
मगर शहर में आग लगाने के लिए काफी हूँ


teri har baat mohabbat me.n gawaara kar ke

teri har baat mohabbat me.n gawaara kar ke
dil ke bazaar me.n baithe he.n, khasaara kar ke

muntazeer hu.n ke sitaaro.n ki zara aankh lage
chaand ko chhat pe bula lunga, ishaara karke

aasmano.n ki taraf pher diya hai maine
chand mitti ke charaago.n ko sitaara karke

mai.n wo samandar hu.n ke har bund, bhanwar hai Jiski
tumne achchha hi kiya, mujhse kanaara karke


तेरी हर बात मोहब्बत में गवारा करके
दिल के बाज़ार में बैठे हैं ख़सारा करके

मुन्तज़िर हूँ के सितारों की ज़रा आँख लगे
चाँद को छत पे बुला लूंगा इशारा करके

आसमानों की तरफ फेर दिया है मैंने
चंद मिट्टी के चरागों को सितारा करके

में वो समंदर हूँ के हर बून्द, भंवर है जिसकी
तुमने अच्छा ही किया मुझसे कनारा करके


chalte-firte hue mahtaab dikhaaenge tumhe.n

chalte-firte hue mahtaab dikhaaenge tumhe.n
ham se milna kabhi punjaab dikhaaenge tumhe.n

chaand Har chhat pe hai, suraj hai har aangan me.n
nind se jaago, to kuchh khwaab dikhaaeinge tumhe.n

puchhte kya ho ke rumaal ke pichhe kya hai
phir kisi roz ye sailaab dikhaaeinge tumhe.n


चलते-फिरते हुए महताब दिखाएंगे तुम्हें
हम से मिलना कभी पंजाब दिखाएंगे तुम्हें

चाँद हर छत पे है, सूरज है हर आँगन में
नींद से जागो तो कुछ ख्वाब दिखाएंगे तुम्हें

पूछते क्या हो के रुमाल के पीछे क्या है
फिर किसी रोज़ ये सैलाब दिखाएंगे तुम्हें


bulaati hai magar jaane ka nahi.n

bulaati hai magar jaane ka nahi.n
ye duniya hai, idhar jaane ka nahi.n

mere bete kisi se ‘ishq kar
magar hadd se guzar jaane ka nahi.n

kushaada zarf hona chaahiye
chhalak jaane-ka, bhar jaane-ka nahi.n

sitaare nonch kar le jaaunga
mai.n khaali haath ghar jaane-ka nahi.n

wo gardan naapta hai, naaple..
magar zaalim se dar jaane-ka nahi.n


बुलाती है मगर जाने का नहीं
ये दुनिया है इधर जाने-का नहीं

मेरे बेटे किसी से इश्क़ कर
मगर हद से गुज़र जाने-का नहीं

कुशादा ज़र्फ़ होना चाहिए
छलक जाने का भर जाने-का नहीं

सितारे नोच कर ले जाऊंगा
में खाली हाथ घर जाने-का नहीं

वो गर्दन नापता है, नापले
मगर ज़ालिम से डर जाने का नहीं


jang hoti thi jahaa.n, tum bhi wahi.n rehte the

jang hoti thi jahaa.n, tum bhi wahi.n rehte the
haa.n magar agli safo.n me.n ham hi rehte the

isi may-khaane me.n ek waqt hamaara tha
magar ham tumhaari tarha, nashe me.n nahi.n rehte the


जंग होती थी जहाँ तुम भी वहीँ रहते थे
हाँ मगर अगली सफों में हम ही रहते थे

इसी मय-खाने में एक वक़्त हमारा था
मगर हम तुम्हारी तरह नशे में नहीं रहते थे


loot machi hai chaaro.n aur, saare chor

loot machi hai chaaro.n aur, saare chor
ek jangal aur laakho.n mor, saare chor

ek theli me.n, afsar bhi, chapraasi bhi
kya taakatwar, kya kamzor, saare chor

ujle kurte pahen rakkhe he.n, saanpon ne
ye zaherile aadamkhor, saare chor

jhut nagar me.n roz nikaalo maun julus
kaun sunega sach ka shor, saare chor


लूट मची है चरों और सारे चोर
एक जंगल और लाखों मोर, सारे चोर

एक थैली में अफसर भी, चपरासी भी
क्या ताकतवर, क्या कमज़ोर, सारे चोर

उजले कुर्ते पहन रक्खे हैं, साँपों ने
ये ज़हरीले आदमखोर, सारे चोर

झूट नगर में रोज़ निकालो मौन जुलुस
कौन सुनेगा सच का शोर, सारे चोर


apna aawaara sar patakne ko

apna aawaara sar patakne ko, teri dehleez dekh leta hu.n
aur fir kuchh dikhaaee de ya na de, kaam ki cheez dekh leta hu.n


अपना आवारा सर पटकने को, तेरी देहलीज़ देख लेता हूँ
और फिर कुछ दिखाई दे या न-दे, काम की चीज़ देख लेता हूँ


agar khilaaf he.n, hone do, jaan thodi hai

agar khilaaf he.n, hone do, jaan thodi hai
ye sab dhuaa.n hai, koi aasmaan thodi hai

lagegi aag to aayeinge ghar kai zad me.n
yahaa.n par sirf hamaara makaan thodi hai

hamaare munh se jo nikle wohi sadaaqat hai
hamaare munh me.n tumhaari zubaan thodi hai

jo aaj saahib-e-masnad he.n, kal nahi.n honge
kiraaye-daar he.n, zaati makaan thodi hai

sabhi ka khoon hai shaamil yahaa.n ki mitti me.n
kisi ke baap ka hindustaan thodi hai


अगर ख़िलाफ़ हैं, होने दो, जान थोड़ी है
ये सब धुंआ है, कोई आसमान थोड़ी है

लगेगी आग तो आयेंगे घर कई ज़द में
यहाँ पर सिर्फ हमारा मकान थोड़ी है

हमारे मुँह से जो निकले, वही सदाक़त है
हमारे मुंह में तुम्हारी ज़ुबान थोड़ी है

जो आज साहिब-ए-मसनद हैं कल नहीं होंगे
किराये दार हैं, जाति मकान थोड़ी है

सभी का खून है शामिल यहाँ की मिटटी में
किसी के बाप का हिन्दुस्तान थोड़ी है


sabko ruswa baari-baari kiya karo

sabko ruswa baari-baari kiya karo
har mausam me.n fatwe jaari kiya karo

roz wahi ek koshish, zinda rehne ki
marne ki bhi kuchh tayyaari kiya karo

chaand zyada roshan hai to rehne do
jugnu bhaiyya ! jee mat bhaari kiya karo


सबको रुस्वा बारी-बारी किया करो
हर मौसम में फतवे जारी किया करो

रोज़ वही एक कोशिश ज़िंदा रहने की
मरने की भी कुछ तय्यारी किया करो

चाँद ज़्यादा रोशन है तो रहने दो
जुगनू भैय्या ! जी मत भरी किया करो


teri parchhayi mere ghar se nahi.n jaati hai

teri parchhayi mere ghar se nahi.n jaati hai
tu kahi.n ho, mere andar se nahi.n jaati hai

aasmaa.n ! maine tujhe sar pe uthaa rakkha hai
ye hai tohmat, jo mere sar se nahi.n jaati hai

dukh to ye hai ke abhi apni safei.n tirchhi he.n
ye kharaabi, mere lashkar se nahi.n jaati hai

taaj machhli ne safaaee ka pahen rakkha hai
gandagi hai ke samandar se nahi.n jaati hai


तेरी परछाई मेरे घर से नहीं जाती है
तू कहीं हो, मेरे अंदर से नहीं जाती है

आसमां ! मैंने तुजे सर पे उठा रक्खा है
ये है तोहमत, जो मेरे सर से नहीं जाती है

दुःख तो ये है के अभी अपनी सफें तिरछी हैं
ये खराबी मेरे लश्कर से नहीं जाती है

ताज मछली ने सफाई का पहन रक्खा है
गन्दगी है के समंदर से नहीं जाती है


aa.ina gard-gard kaisa hai

aa.ina gard-gard kaisa hai
rang chehre ka zard kaisa hai

kaam gutno.n se jab nikla hi nahi.n
to ye gutno.n me.n dard kaisa hai


आईना ज़र्द-ज़र्द कैसा है
रंग चहेरे का ज़र्द कैसा है

काम घुटनों से जब लिया ही नहीं
तो ये घुटनों में दर्द कैसा है


yakeen kiya to jaana, yakeen me.n kya-kya hai

yakeen kiya to jaana, yakeen me.n kya-kya hai
ye aasmaan se puchho, zamee.n me.n kya-kya hai

tumhaare haath ka guldasta aa raha hai nazar
magar pata to chale aasteen me.n kya-kya hai


यकीन किया तो जाना यकीन में क्या-क्या है
ये आसमान से पूछो, ज़मीं में क्या-क्या है

तुम्हारे हाथ का गुलदस्ता आ रहा है नज़र
मगर पता तो चले आस्तीन में क्या-क्या है


Most Popular Rahat Indori Shayari Lyrics in English Hindi full collection

One thought on “Most Popular Rahat Indori Shayari Lyrics in English Hindi full collection

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to top
Verified by MonsterInsights